Connect with us

स्वास्थ्य

क्‍या आपने भी कोरोना वायरस के डर से चिकन खाना छोड़ दिया है ? अगर हां तो ये खबर पढ़ें  

Published

on

अगर आपने भी कोरोना वायरस के डर से चिकन खाना छोड़ दिया है तो ये खबर पढ़ें, जानें किस तरह से आप इस वायरस का डटकर सामना कर सकते हैं ।

New Delhi, Mar 12: कोरोना वायरस अब भारत में भी पैर पसार रहा है । एक दो मरीज से शुरू हुई ये खबर 70 मरीजों के संक्रमण को पार कर गई है । गनीमत ये कि इस वायरस का संक्रमण भारत में अभी भय की रेखा को पार नहीं कर पाया है । जो मरीज हैं उनका इलाज किया जा रहा है और हालत में सुधार का दावा भी । बहरहाल इस वायरस के संक्रमण की खबर के साथ लोगों को खान-पान को लेकर कई तरह की खबरें सुनने को मिल रही हैं । विशेष तौर पर नॉन वेज खाने को लेकर । अगर आपने भी इस वायरस के डर से चिकन खाना छोड़ दिया है तो ये खबर जरूर पढ़ें ।

चिकन खाने से नहीं होता कोरोनावायरस
सबसे पहले तो ये क्लियर कर दिया जाए कि नॉनवेज खाने से कोरोनावायरस नहीं होता है । खान-पान को लेकर

आ रही इन अफवाहों पर भारत सरकार की ओर से पहले ही कहा जा चुका है चिकन खाने से किसी के शरीर पर कोरोना वायरस का प्रभाव नहीं पड़ता है । मंत्रालय की ओर से कहा गया कि कुछ

असामाजिक तत्व अपने फायदे के लिए न केवल पोल्ट्री कारोबारियों को भ्रमित कर रहे हैं, बल्कि देश के नागरिकों को भी गुमराह कर रहे हैं । इन अफवाहों से पॉल्‍ट्री व्‍यवसाय को 15 से 20 हजार करोड़ का नुकसान हो रहा है ।

इम्‍यूनिटी वाला भोजन करें
चिंकन खाने से आपको कोराना वायरस नहीं होगा, लेकिन इससे बचाव के लिए आप ऐसा खाना जरूर खाएं जिससे आपकी इम्‍यूनिटी बिल्‍ड अप हो । अदरक,

कालीमिर्च, सोंठ, हल्‍दी, दूध जैसे खाद्य पदार्थ को अंदर से मजबूत करते हैं । कोरोना वायरस एक वायरस द्वारा होने वाला संक्रमण है, जिसके अब तक कुल 70 के करीब मरीज भारत में भी सामने आ चुके हैं ।

इस वायरस का अब तक कोई इलाज नहीं ढूढ़ा जा सका है ।

कटहल की बिब्री बढ़ी
हैरानी की बात ये कि चिकन को लेकर उड़ी इस अफवाह का असर कटहल की बिक्री पर देखने को मिला है ।

कटहल की बिक्री आसमान छू रही है, देश में अचानक से कटहल की डिमांड बढ़ गई है । दरअसल वेज फूड खाने वालों के लिए कटहल, चिकन की तरह ही माना जाता है । इसीलिए इन दिनों लोग चिकन छोड़ कटहल को खूब खा रहे हैं ।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

स्वास्थ्य

सर्दियों की रामबाण दवा है गुड़, इतनी सारी बीमारियों में करता है तेजी से असर

Published

on

By

गुड़ खाने के फायदे ही फायदे ही हैं । खासतौर पर सर्दियों में, ये बच्‍चों से लेकर बुजुर्गों तक सब की डायट का हिस्‍सा जरूर होना चाहिए । आगे जानें गुड़ का सेवन आपको कितना लाभ पहुंचा सकता है ।

New Delhi, Dec 23 : चीनी का सबसे सेहतमंद विकल्‍प माना जाने वाला गुड़ कई गुणों की खान है । खनिज तत्‍वों से भरपूर गुड़ का सेवन सर्दियों में जरूर करना चाहिए । ये सर्दियों में होने वाली बीमारियों से आपको बचाता है । इम्यूनिटी को स्‍ट्रॉन्‍ग करता है । गुड को कई तरह से खाया जाता है, आप इसे पानी के साथ, चाय के साथ, मिठाईयों में या फिर चिक्‍की बनाकर खा सकते हैं । गुड़ खाने के फायदों के साथ हम आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में भी बताएंगे ।

सर्दी-जुकाम में रामबाण
सर्दियों में गुड़ से बेहतर कोई दवा नहीं है । अपने घर के प्रत्‍येक सदस्‍य को गुड का सेवन कराएं और सर्दियों में होने वाली परेशानियों को एकदम भूल जाएं । ये सर्दी, जुकाम, खांसी में राहत देता है । अगर आपको कफ की समस्‍या हो गई है तो दूध या चाय के साथ गुड़ का प्रयोग करें । गुड़ के साथ तुलसी अदरक का काढ़ा बनाकर पी सकते हैं । आपको बहुत लाभ होगा ।
जोड़ों में दर्द सताए
सर्दियों में जोड़ों का दर्द बहुत परेशान करता है । ऐसे में गुड़ काफी मददगार साबित हो सकता है । कच्‍चे अदरक के साथ प्रतिदिन गुड़ का एक टुकड़ा खाएं । जोड़ों के दर्द में राहत मिलेगी । बचपन से ही बच्‍चों को गुड़ खिलाने से उनकी हड्डियां मजबूत होती है, आगे चलकर दर्द आदि की संभावना कम ही रहती है । ये हमारी डेली डायट का महत्‍पवूर्ण हिस्‍सा होना चाहिए ।

खून बढ़ाता है गुड़
खून साफ करने के साथ गुड़ खून बढ़ाने का काम भी करता है । साथ ही खून में आयरन की मात्रा को भी संतुलित रखता है । गुड़ में काफी मात्रा में फज्ञेलेट पाया जाता है जो रक्‍त को मजबूती प्रदान करता है । इसे खाने से एनीमिया की समस्‍या नहीं होती । महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान गुड़ का सेवन जरूर करना चाहिए । इसे खाने से रक्‍त की क्षतिपूर्ति होती है ।
थकान कमजोरी को दूर भगाए
गुड में मौजूद खनिज तत्‍व शरीर में आलस पैदा करने वाले हार्मोन्‍स को कमजोर करता है । ये रक्‍त में पहुंचकर शरीर को ऊर्ज देता है । जिसे बॉडी एनर्जेटिक फील करती है । गुड़ खाने वाले व्‍यकित थकान, कमजोरी महसूस नहीं करत । प्राचीन समय से भारत में गुड़ का इस्‍तेमाल होता आया है । यहां के गांवों में आज भी गुड का सेवन रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्‍सा, इसीलिए वे इतने स्‍वस्‍थ भी हैं ।

पेट की प्रॉब्‍लम
पेट की समस्याओं को दूर रखना है तो गुड का सेवन करना आसान और फायदेमंद तरीका है । ये पाचन क्रिया को दुरुस्‍त रखता है, गैस आदिकी समस्‍या से छुटकारा दिलाता है । गुड़ का सेवन करने का सबसे अच्‍छा तरीका है खाना खाने के इसका सेवन करना । ये बॉडी में खाने को अच्‍छे से डायजेस्‍ट करने में हेल्‍प करता है । ये खाने को पचाने वाले जूसेज के बनने की प्रक्रिया को सरल करता है और खाना जल्‍दी पच जाता है ।
जलन और खराश में फायदेमंद
गले में खराश हो रही तो गुड़ का काढ़ा बनाकर पी लें । इसके लिए एक गिलास पानी गरम करें इसमें एक छोटा टुकड़ा गुड़ और अदरकर पीसकर डालें । अब इसे उबालें और ठंडा करके पी जाएं । ये काढ़ा गले को साफ करता है, खराश दूर करता है साथ पेट की जलन को भी दूर करता है । इसे पीने से आवाज साफ हो जाती है । जो लोग गायिकी के प्रोफेशन में हैं उनके लिए ये काढ़ा रामबाण इलाज है ।

स्किन के लिए फायदेमंद
गुड़ आपको स्‍वाद ही नहीं देता बल्कि ये रक्‍त के विकार दूर कर खून साफ करता है । गुड़ खाने से त्‍वचा संबंधी परेशानियां काफी हद तक कम हो जाती हैं । ये शरीर में मौजूद टॉक्सि एलीमेंट्स को बाहर निकालता है और रक्‍त की शुद्धि करता है । गुड़ खाने से त्‍वचा एकदत साफ सुथरी रहती है, कील मुंहासों की समस्‍या बार-बार नहीं सताती । इसे खाने से त्‍वचा में चमक आती है ।
ठंड नहीं लगती
सर्दियों में बॉडी को गर्माहट देने का काम करता है गुड़ । ये आपके बॉडी टम्‍परेचर को कंट्रोल करता है । इसमें एंटी एलर्जिक एलीमेंट्स पाए जाते हैं । वो मरीज जो अस्‍थमा के पेशेंट हैं उनके लिए गुड़ बहुत फायदेमंद है । डायबिटीज के पेशेंट जो चीनी नहीं खा सकते उनके लिए गुड़ एक विकल्‍प हो सकता है । लेकिन गुड़ का ज्‍यादा सेवन आपकी बीमारी को और बढ़ाएगा । क्‍योंकि इसमें भी मीठे की मात्रा बहुत अधिक होती है जो मधमेह रोगियों के लिए चीनी जितनी ही नुकसानदायक हो सकती है ।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

स्वास्थ्य

सर्दियों में चाय की चुस्कियां जरूर लें, लेकिन ये वाली चाय बेस्‍ट रहेगी

Published

on

By

चाय पीना कई लोगों की आदत में शुमार है । रेगुलर चाय में कुछ ऐसे तत्‍व होते हैं जो हमें इनका आदी बना देते हैं । लेकिन रेगुलर चाय पीना हमारी सेहत के लिए अच्‍छा नहीं माना जाता ।

New Delhi, Dec 17 : चाय, हम में से ज्‍यादातर लोगों के रूटीन का हिस्‍सा है । सुबह उठकर चाय का एक प्‍याला हमारी सारी नींद को काफूर कर देता है । ऑफिस में बैठे – बैठे भी हम चाय के चार – पांच प्‍याले पी ही जाते हैं । लेकिन रेगुलर टी वो भी चीनी वाली, इसे इतनी बार पीना क्‍या आपके लिए सही है । कामकाजी लोगों के मोटापे का एक बड़ा फैक्‍टर ये चाय भी है । अगर रेगुलर चाय को दूसरी किस्‍म की चाय के साथ बदल दिया जाए तो ये सेहत की चाय भी बन सकती है । चलिए आपको बताते हैं कुछ ऐसी ही सेहतमंद चाय के बारे में ।

ग्रीन टी – रेगुलर टी को आप ग्रीन टी से बदल दें । गरम पानी के साथ झटपट बनने वाली ग्रीन टी

आप कभी भी ले सकते हैं । ये आपके मोटापे को बिलकुर कैंची की तरह काटने में मदद करती है।
सिनेमन टी – हर घर में दालचीनी का इस्‍तेमाल होता है । क्‍या आप जानते हैं दालचीनी मोटापा कम करने में कितनी मददगार है । दालचीनी को पानी में उबालकर रोज इस पानी को पीने से आप हफ्तों में इंच लॉस कर स्लिम-ट्रिम हो सकते हैं ।

लेमन टी – नींबू वाली ये चाय सेहत के साथ स्‍वाद से भी भरपूर होती है । पानी गरम कर उसमें बहुत

कम चायपत्‍ती डालकर उबालें । इसमें नींबू का रस मिलाएं और फिर शहद डालकर इस चाय का आनंद लें ।
जिंजर टी – अदरक वाली चाय सेहत से भरपूर होती है, इसे सर्दी में पीना सबसे ज्‍यादा लाभकारी होता है । जिंजर टी जहां आपके शरीर को गर्मी देती है वहीं आपके अंदर पनप रहे एसडि पर भी काम करती है ।
अजवाइन वाली चाय – अजवाइन में राइबोफ्लेविन नामका एक ऐसा तत्‍व होता है जो फैट को कम

करने में मदद करता है । गर्म पानी में अजवाइन के साथ इलायची, सौंफ, अदरक डालकर उबालें । इसे पीने के बाद नतीजे आपको कुछ ही दिनों में नजर आने लगेंगे ।

काली मिर्च वाली चाय – ब्‍लैक पेपर के फायदे कौन नहीं जानता । चुटकी भर काली मिर्च आपके

खाने का स्‍वाद भी बढ़ाती है और सेहत भी । काली मिर्च को गर्म पानी में उबालकर, अदरक के रस, नींबू और शहद मिलाकर पीने से फायदा मिलता है ।
ब्‍लैक टी या काली चाय – अगर आपको टी लीफ का टेस्‍ट बेहद पसंद है तो आप इसकी बिना दूध वाली चाय बनाएं । बिना शक्‍कर डाले । हल्‍का सा उबालने के बाद इसमें नींबू का रस और काला

नमक डालकर पीएं । आपको ये चाय मीठी चाय से भी ज्‍यादा बेहतर लगेगी ।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

स्वास्थ्य

प्रेग्‍नेंसी रोकने के 100 फीसदी नैचुरल तरीके, दवाईयां खाने की जरूरत नहीं पड़ेगी

Published

on

By

गर्भनिरोधक दवाओं के कई साइड इफेक्‍ट्स सामने आते रहते हैं । ज्‍यादातर महिलाओं में हार्मोनल चेंजेस होने लगते हैं । वो मोटी भी हो जाती है । ऐसे में आगे कुछ उपाय बताए जा रहे हैं, जो पूरी तरह से प्राकृतिक हैं और असरदार भी ।

New Delhi, Sep 10: कॉन्‍ट्रासेप्टिव पिल्‍स के ऐसे कई नुकसान हैं जिनसे आप वाकिफ नहीं हैं, ऐसे में आपको कुछ अनजाने नुकसान उठाने पड़ सकते हैं । कई बार आप पीरीयड्स की प्रॉब्‍लम से गुजरती हैं, तो कई औरतों में तेज पेट दर्द उठता है । कई बार हार्मोन्‍स डिस्‍बैलेंस हो जाते हैं जिसके चलते तनाव होने लगता है, महिलाएं मोटी होने लगती हैं । ऐसे में क्‍या रास्‍ता अपनाया जाए, आप नैचुरल कॉन्‍ट्रासेप्टिव्‍स का इस्‍तेमाल कर सकती हैं । प्राकृतिक गर्भनिरोधन कोई चमत्‍कार नहीं है बल्कि वो फल या कुछ खाने-पीने की चीजें हैं जिन्‍हे गर्भ ठहरने के दौरान लेने की मनाही की जाती है । इनमें मौजूद तत्‍व गर्भ रुकने नहीं देते । हालांकि इन चीजों का सेवन करने से पहले ये जरूर जान लें कि इन चीजों से आप एलर्जिक तो नहीं ।

नीम
नीम को प्रजनन-विरोधी जड़ी-बूटी के रूप में जाना जाता है। महिलाएं इसे क्रीम या जेल के रूप में अपने प्राइवेट पार्ट पर लगा सकती हैं। इसके अलावा, पुरुष नीम के तेल के कैप्सूल का सेवन कर सकते है ।
दालचीनी – दालचीनी में मासिक धर्म के प्रवाह को उत्तेजित करने के गुण होते हैं। आपको कितनी मात्रा में दालचीनी का सेवन करना है, इसके बारे में डॉक्टर से सलाह ले लें।
पपीता खाएं
दादी, नानी या आपकी पड़ोसन से आपने जरूर सुना होगा कि गर्भवती होने के दौरान पपीते का

सेवन ठीक नहीं होता । इसे खाने से भ्रूण को नुकसान पहुंच सकता है । ऐसे में आप पपीते का सेवन रोज करें, गर्भधारण के चांसेज कम ही रहेंगे ।

अनानास यानी पाइन एप्‍पल
प्रेग्‍नेंसी में जो दूसरी चीज खाने से मना की जाती है वो है अनानास में कुछ ऐसे तत्‍व पाए जाते हैं जो

नैचुरल कॉन्‍ट्रासेप्टिव का काम करते हैं । इसके नियमित सेवन से मोटापा भी नहीं बढ़ता है । तो अगर आप अभी गर्भधारण नहीं करना चाहती तो खाने के साथ अनानास सैलेड खाने की आदत डाल लें । इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं को दूध पीने की सलाह दी जाती है, लेकिन कच्‍चा दूध उन्‍हें नुकसान पहुंचाता है । तो अगर आप गर्भवती नहीं होना चाहती तो सुबह – सुबह एक गिलास कच्‍चे दूध का गटक लें ।

अदरक
अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने के लिए अदरक भी फायदेमंद साबित हो सकती है, क्योंकि अदरक से मासिक धर्म प्रेरित हो सकता है और ब्लीडिंग शुरू होने में मदद मिलती है। इसके लिए आप पानी में अदरक को घिसकर उबाल लें। उबालने के बाद पानी को छानकर पी लें
खुबानी –  खुबानी गर्भ में भ्रूण को विकसित होने से रोकती है। ऐसे में संभोग के बाद, पीरियड शुरू होने तक हर दिन 5 से 10 खुबानी खाएं।
सूखी अंजीर –  सूखी अंजीर भी गर्भनिरोधक का काम करती है। प्राचीन समय में इसका इस्तेमाल गर्भनिरोधक के लिए किया जाता था ।
विटामिन-सी
विटामिन-सी में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन को दबाने वाले गुण होते हैं। चूंकि, गर्भावस्था को बनाए रखने के लिए प्रोजेस्ट्रोन जरूरी है, इसलिए यह बर्थ कंट्रोल का काम कर सकता है।
हींग – हींग को भी गर्भनिरोधक के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए हींग का सेवन

काढ़े के तौर पर किया जा सकता है। इसके सूखे एक्सट्रेक्ट को सफेद सरसों और सेंधा नमक के साथ मिलाकर बनाया जाता है। फिर इसमें सिरका मिलाकर पतला किया जाता है और फिर पिया जाता है !
कुट्टू
कुट्टू में रूटीन होता है, जिसका उपयोग गर्भावस्था को रोकने के लिए किया जाता है। आपको बता दें कि बाजार में रूटीन से तैयार की गई गोलियां भी मौजूद हैं, जिसका सेवन आप प्रेग्नेंसी रोकने के लिए कर सकते हैं। आपको इसकी कितनी मात्रा लेनी है, इस बारे में एक बार अपने डॉक्टर से पूछ लें।
सॉर्ड फिश – इस मछली में मरकरी पाया जाता है, ये प्राकृतिक गर्भनिरोधन का अच्‍छा तरीका है । संबंध बनाने के बाद जैसे आप आई पिल का सेवन करती हैं वैसे ही सॉर्ड फिश गर्भनिरोधन का काम करती है ।
(ये सभी उपाय इंटरनेट पर मौजूद जानकारी और रिसर्च पर आधारित है, इंडिया बियॉन्‍ड न्‍यूज इनकी पुष्टि नहीं करता)

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

Trending

a venture of reimagine labs media pvt.ltd.