Connect with us

MUST READ

अफगानिस्तान में हैं माता का यह मंदिर, यहां मुसलमान भी बढ़-चढ़कर करते हैं माता की पूजा

Published

on

New Delhi :  नवरात्र चल रहा है और घर में माता की पूजा और जयकारे लग रहे हैं। ऐसा केवल अपने देश में नहीं हो रहा है। दुनिया के अलग-अलग देशों में माता के भक्त मौजूद हैं और उनकी विधिवत पूजा कर रहे हैं। लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि मुस्लिम देश अफगानिस्तान में भी माता का मंदिर है। जहां माता की पूजा में मुसलमान भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मां शक्ति का मंदिर आसा पहाड़ी पर स्थित है। मान्यता है कि मां शक्ति आसमाई रूप में अपने भक्तों की हर आस पूरी करती हैं। इसीलिए इन्हें आसमाई कहा जाता है। मां के इस स्वरूप के नाम पर ही इस पहाड़ी का नाम आसा पहाड़ी पड़ा।

माता के इस मंदिर में माता के अतिरिक्त कई अन्य देवताओं की मूर्तियां हैं। इस मंदिर के पास एक बड़ी शिला है। इस शिला को पंजसीर का जोगी नाम से जाना जाता है। इस जोगी के बारे में मान्यता है कि करीब 151 साल पहले जोगी इस स्थान पर तपस्या करने आए थे। लेकिन स्थानीय लोगों ने उन्हें बहुत परेशान किया। इसलिए वह शिलारूप लेकर मां के चरणों में स्थापित हो गए। तभी से इस शिला को उनके ही नाम से पुकारा जाता है।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MUST READ

करतापुर साहिब के दर्शनों के लिए आज से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

Published

on

By

New Delhi : करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए आज से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हो रहा है। करीब चार किलोमीटर लंबे करतारपुर कॉरिडोर का काम सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से एक सप्ताह पहले 31 अक्टूबर तक हो जाएगा।

कॉरिडोर (गलियारा) को लेकर भारत-पाकिस्तान के बीच फीस को लेकर पेंच अब भी फंसा है। पाकिस्तान का कहना है कि हर एक श्रद्धालु से 20 डॉलर यानि करीब 1500 रुपये की फीस लेगा। वहीं भारत ने पाकिस्तान से फीस नहीं लेने का आग्रह किया है।

करतारपुर साहिब गुरुद्वारा पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के नारोवाल जिले में स्थित है, जोकि डेरा बाबा नानक के समीप सीमा से 4।5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह गुरुद्वारा सिखों के लिए काफी पवित्र है, क्योंकि गुरु नानक देव ने अपने जीवन के 18 साल और अपना अंतिम समय भी यहीं बिताया था।

कॉरिडोर के 8 नवंबर को उद्घाटन की संभावना है और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर के खुलने के दिन करतारपुर साहिब जाने वाले सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई करेंगे। प्रतिनिधिमंडल में मुख्यमंत्री के साथ सभी 117 विधायक, पंजाब से लोकसभा और राज्यसभा सांसद, शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक समिति(एसजीपीसी) के सदस्य और संत समाज के सदस्य और राज्य के सभी प्रमुख राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

MUST READ

BIG BOSS विवाद पर बोले सूचना मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, मंत्रालय शिकायतों को संज्ञान में लेगा

Published

on

By

New Delhi : रियलिटी टीवी शो बिग बॉस का काफी ज्यादा विरोध होने के बाद अब सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आश्वासन दिया है कि मंत्रालय इस मामले का संज्ञान लेगा। कलर्स टीवी पर प्रसारित होने वाले धारावारिक बिग बॉस को बैन किए जाने को लेकर सोशल मीडिया पर काफी कैंपेन चलाए गए थे।

बता दें कि शो की शुरुआत में ये दो लोगों को बेड शेयर करने थे, जिस पर काफी विवाद हुआ था। इसमें कुछ बिस्तर ऐसे भी थे जिनमें लड़के और लड़कियों को एक साथ सोना था। लोगों ने शो पर लव जेहाद और अश्लीलता फैलाने जैसे गंभीर आरोप लगाए। इसके बाद बिग बॉस ने शो का नियम बदल दिया और किसी को भी किसी के भी साथ सोने की अनुमति दे दी। हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रकाश जावड़ेकर ने कहा- हमने मंत्रालय से कहा है कि बिग बॉस के खिलाफ आ रही शिकायतों पर ध्यान दें।

बता दें कि जिस वक्त ये हैश टैग ट्रेंड हुए थे उस दौरान कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्होंने इस शो और कलर्स टीवी को बैन करने की मांग की। एक यूजर ने ये भी पूछा कि इंफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग मंत्रालय इस मामले में कुछ एक्शन क्यों नहीं ले रहा है? कुछ लोग ऐसे भी थे जो बिग बॉस के समर्थन में थे। एक यूजर ने लिखा- रिमोट का एक बटन होता है, जिससे चैनल्स को बदला जा सकता है और अगर आपको कोई चीज पसंद नहीं आ रही है तो इस रिमोट का इस्तेमाल किया जा सकता है।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

MUST READ

EPFO ने 200 से ज्यादा कर्मचारियों को दिया दिवाली का तोहफा.. दिलवाया रुका हुआ PF

Published

on

By

New Delhi : EFPO ने दिल्ली की एक कंपनी में कार्यरत 200 से ज्यादा लोगों को दिवाली का तोहफा दिया है। विभाग ने कंपनी से कर्मचरियों का बकाया PF वसूलने की कार्रवाई की है।

दरअसल दिल्ली के भीकाजी कामा प्लेस में एक कंपनी है । मेट्रो सिक्योरिटी एंड अलाइट सर्विसेज। इस कंपनी ने अपने 200 से ज्यादा कर्मचारियों का PF रोक रखा था और उसे EFPO में जमा नहीं करवाया। अब EFPO ने कार्रवाई करते कंपनी से 61 लाख 80 हजार रुपए वसूले हैं।

EPFO की तरफ से की गई यह कार्रवाई कंपनी के कर्मचारियों के लिए किसी तोहफे से कम नहीं है। सहायक भविष्य निधि आयुक्त के अनुसार मेट्रो सिक्योरिटी एंड अलाइट सर्विसेज जो सेंट्रल वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के अंर्तगत काम करती है, इस कंपनी ने अपने 200 से अधिक सुरक्षा गार्डों का PF जमा नहीं करवाया।

विभाग ने 2016 में कंपनी को नोटिस जारी करते हुए कहा था कि वो अपने कर्मचारियों का PF जमा करवाए वरना कंपनी पर धारा 7 A के तहत कार्रवाई होगी। कंपनी ने विभाग के नोटिस देने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की और ना ही कोई दस्तावेज उपलब्ध करवाया।

इसके बाद पश्चिमी दिल्ली के रीजनल भविष्य निधि आयुक्त उत्तम प्रकाश ने कंपनी पर कार्रवाई करने के आदेश दिए। जिसके बाद कंपनी को करीब 62 लाख रुपए विभाग में जमा करवाने का निर्देश दिया गया। विभाग की तरफ से कंपनी को कहा गया कि 15 दिनों के भीतर यह रकम जमा करवाई जाए लेकिन इसके बाद भी कंपनी ने रकम जमा नहीं करवाई।

इसके बाद 23 सितंबर 2019 को भविष्य निधि अधिनियम 1952 के (8F)के अंतर्गत कंपनी को संचालित कर रही सेंट्रल वेयर हाउसिंग कारपोरेशन को नोटिस जारी किया गया। जिसके बाद कंपनी ने 61लाख 80 हजार 80 रुपये का चेक 17 अक्टूबर को भविष्य निधि में जमा करवा दिया। इस कार्रवाई से सैंकड़ो कर्मचारियों का बकाया भविष्य निधि वसूला जा सका है। कंपनी के कर्मचारियों के लिए ये किसी तोहफे से कम नहीं है।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

Trending

a venture of reimagine labs media pvt.ltd.