Connect with us

MUST READ

गुजरात से मुंबई के बांद्रा तक चलेगा पानी का जहाज…16 घंटे में तय होगी 222KM की दूरी

Published

on

New Delhi : कोस्टल टूरिज्म के प्रोत्साहन के लिए गुजरात सरकार ने एसएसआर मरीन सर्विस को हजीरा से बांद्रा के बीच पैसेंजर क्रूज फेरी सर्विस की मंजूरी दे दी है। एसएसआर मरीन सर्विस के सीईओ संजीव अग्रवाल ने बताया कि 10 नवंबर से हजीरा से बांद्रा के बीच पैसेंजर क्रूज फेरी सर्विस शुरू कर दी जाएगी।

शुरू में यह सर्विस साप्ताहिक होगी। बाद में जरूरत के मुताबिक ट्रिप बढ़ाई जाएगी। फेरी सर्विस गुरुवार शाम 5 बजे बांद्रा (बांद्रा-वर्ली सी लिंक के पास से) से प्रस्थान करेगी और शुक्रवार सुबह 9 बजे हजीरा पहुंचेगी।

शुक्रवार शाम 5 बजे हजीरा से प्रस्थान करेगी और शनिवार सुबह 9 बजे बांद्रा पहुंचेगी। क्रूज सूरत से बांद्रा सी लिंक के बीच की 222 किमी दूरी 16 घंटे में तय करेगा। टिकट ऑनलाइन और टेलीकॉलिंग से बुक की जाएगी। इसका किराया 3000 से 5000 रुपए तक होगा। तीन डेक वाले लग्जरी क्रूज में 215 लोग सफर कर सकते हैं।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MUST READ

मुसलमानों का ऐलान..राम मंदिर निर्माण के लिए देंगे 5 लाख रुपए

Published

on

By

New Delhi : अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए असम के 21 मुस्लिम संगठनों ने राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट में 5 लाख रुपये देने की घोषणा की है। जोमोगुस्थिया सोमोन्नय परिषद असम (जेएसपीए) ने राम मंदिर के निर्माण के लिए सहयोग देने का ऐलान किया है।

संगठन की ओर से कहा गया कि देश की एकता के प्रति मुस्लिमों की एकजुटता दिखाने और हिंदुओं की मंदिर निर्माण के प्रति आस्था को देखते हुए यह फैसला किया गया है।

जेएसपीए के चेयरमैन और बीजेपी के वरिष्ठ प्रवक्ता सैयद मुमीनुल ओवाल ने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि हम खुश हैं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एक लंबे विवाद का अंत हुआ।

हम मंदिर के लिए 5 लाख रुपये का दान देंगे क्योंकि हम भी इस ऐतिहासिक फैसले बनना चाहते हैं और देश की एकता और भाईचारे को मजबूत करना चाहते हैं।

इन 21 संगठनों में गोरिया, मोरिया, देशिया, जल्हा, मैमल और कचरी मुस्लिम शामिल हैं जिनके पूर्वजों ने राज्य के कई जातीय समूहों से निकलकर इस्लाम कबूल कर लिया था।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

MUST READ

अयोध्या से जनकपुर तक निकाली जाएगी राम बारात..PM मोदी और योगी हो सकते हैं शामिल

Published

on

By

New Delhi : राम मंदिर के पक्ष में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद इस बार अयोध्या से भव्य राम बारात निकाली जाएगी। विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) के तत्वावधान में अयोध्या से जनकपुर (नेपाल) तक निकाली जाने वाली राम बारात इस साल और ज्यादा धूमधाम से निकाली जाएगी।

खबरें हैं कि इस बार राम बारात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित देश प्रमुख विशिष्ट व्यक्तियों के साथ ही नेपाल के राजपरिवार के शामिल होने की संभावना है। खबर है कि एक दिसंबर को आयोजित राम विवाह में पीएम मोदी व सीएम योगी को विवाह के साक्षी बनने के लिए आमंत्रित किया गया है।

वहीं, राम बारात के लिए कारसेवकपुरम में रथ को सजाने का काम शुरू हो गया है। श्रीराम विवाह आयोजन समिति के संयोजक राजेन्द्र सिंह पंकज ने बताया, ‘बारात 21 नवंबर को धूमधाम से निकाली जाएगी। यह बारात विभिन्न पड़ावों से गुजरते हुए 28 नवंबर को जनकपुर पहुंचेगी। 29 नवंबर को दशरथ मंदिर के प्रांगण में तिलकोत्सव, 30 नवम्बर को कन्या पूजन के अलावा मटकोर का आयोजन किया जाएगा।’

उन्होंने बताया, ‘बारात कार और बस से जाएगी। इसके साथ भगवान के स्वरूपों का रथ भी शामिल होगा। राम बारात की शुरुआत लक्ष्मण किलाधीश महंत सीतारामशरण महाराज ने की थी। पंकज ने बताया, “बारात के साथ दो सुसज्जित रथ रहेंगे जिस पर भगवान के स्वरूप रहेंगे। इस बार बारात में अयोध्या, हरिद्वार, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के संत शामिल होंगे। इसके अलावा नेपाल के राज परिवार के शामिल होने की संभावना है।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

MUST READ

अमेरिकी दंपति ने भारत आकर हिंदू रिती रिवाजों से की शादी, बोले- हमें सात वचन अच्छे लगे

Published

on

By

New Delhi : अमेरिका से कुंडलिनी जागरण विधा सीखने के लिए शिवपुरी आए डॉक्टर दंपति ने सोमवार को भारतीय रीति रिवाज से पुन: शादी रचाई। नक्षत्र गार्डन में आयोजित विवाह समारोह में डॉ. डेविड दूल्हा बने और उनकी पत्नी डॉ. नैलिस दुल्हन बनीं।

उन्होंने माथे पर बिंदी के साथ ही सिंदूर लगाया। अमेरिकी दंपति ने बुजुर्गों से आशीर्वाद भी लिया। शादी के बाद इस अमेरिकी दंपति ने कहा कि सबसे अच्छे वे 7 वचन लगे जिसमें पति-पत्नी की एक दूसरे के प्रति ड्यूटी को बताया गया है।

विश्व आध्यात्मिक संस्थान की ओर से शिवपुरी शहर में रविवार से तीन दिवसीय ध्यान और योग के साथ कुंडलिनी जागरण शिविर आयोजित किया जा रहा है।

संस्थान प्रमुख डॉ. रघुवीर सिंह गौर के मार्गदर्शन में नक्षत्र वाटिका में चल रहे इस शिविर में शामिल होने के लिए अमेरिका के अटलांटा से 55 वर्षीय डॉ. डेविड और उनकी 48 वर्षीय पत्नी डॉ. नैलिस भी शिवपुरी आई हैं।

डॉ. डेविड मेडिसिन विशेषज्ञ हैं जबकि उनकी पत्नी नैलिस फार्मासिस्ट हैं। यह पति-पत्नी शिविर के दौरान विश्व आध्यात्मिक संस्थान के प्रमुख डॉ. गौर से कुंडलिनी जागरण की विधा सीख रहे हैं। नक्षत्र गार्डन के उसी परिसर में सोमवार को धाकड़ परिवार का शादी समारोह था।

सुबह जब विवाह संबंधी रीति रिवाज शुरू हुए तो कार्यक्रम देखकर इस विदेशी दंपति के मन में भी विचार आया कि क्यों न वे भी भारतीय पद्धति के अनुसार शादी करें और फिर से दूल्हा-दुल्हन बनें।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

Trending

a venture of reimagine labs media pvt.ltd.