Connect with us

MUST READ

मिसाल : मां से बिछडे बंदर के बच्चे को कुत्ते ने पीठ पर बिठाकर पुलिस तक पहुंचाया

Published

on

New Delhi : एक नवजात बंदर अपनी मां से बि’छड़ गया तो एक कुत्ता मददगार बना। कुत्ता पहले तो बंदर के बच्चे के साथ म’स्ती करता रहा और फिर उसे पुलिस के पास ले गया। इसके बाद मासूम बंदर की जिंदगी आगे बढ़ के सु’रक्षित हो गई।

छोटी सी जान कुत्ते ने एक मासूम बंदर की मदद कर यह साबित कर दिया है कि इंसान ही नहीं जानवरों में भी इंसानियत अभी कायम है।

दरअसल जिले के रहली क्षेत्र में आने वाले बलेह गांव में सागर तालाब में एक नवजात बंदर अपनी मां से बि’छड़ गया। उसे अकेला और परेशान देख एक कुत्ते के बच्चे ने उसको सहारा दिया। कई घंटो दोनों खेलते रहे फिर इस मासूम बंदर को कोई नु’कसान न पहुंच जाए, मानो ऐसा सोचकर यह नन्हा कुत्ता उस मासूम बंदर को अपनी पीठ पर बैठाकर खाकी के दरबार यानी पुलिस चौकी के पास पहुंच गया।

कुत्ते और बंदर के बच्चे की इस गजब दोस्ती को देखकर बलेह चौकी प्रभारी अवधेश दुबे का भी मन भर आया और उन्होंने जवानों को भू’खे बंदर के लिए कुछ खाने का प्रबंध करने के निर्देश दिए। चौकी प्रभारी दुबे ने स्वयं बंदर को केले खिलाए। तब तक अपने दोस्त को अंदर देख कुता भी बहार खड़ा रहा। इसके बाद चौकी प्रभारी ने बंदर को वन विभाग को सौंप दिया। साथ ही यह अनुरोध भी किया कि वन विभाग यह कोशिश करे कि इस मासूम बंदर को उसकी मां से मिला दिया जाए।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MUST READ

शादी के बाद दुल्हन ने किया ऐसा कां’ड…जानकर पुलिस भी हैरान रह गई

Published

on

By

New Delhi : राजस्थान के भरतपुर से 13 नवंबर की देर रात दो दुल्हन ससुराल के लोगों को खाने में न’शीला पदार्थ देकर बेहोश करने के बाद सोने के जेवर और नकदी लेकर फरार हो गई।

लु’टेरी दुल्हनों में से एक दुल्हन और उसकी सहयोगी महिला को आखिर 9 दिन बाद पुलिस गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही इस गैंग के अन्य सदस्यों को भी गिरफ्तार किया है। फरार हुई लु’टेरों दुल्हनों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस टीम गठित की गई थी जिसने उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और उत्तराखंड के कई शहरों में दबिश दी, तब जाकर इनको गिरफ्तार किया गया।

यह पूरा मामला चिकसाना थाना क्षेत्र के गांव हथैनी का है। 8 नवंबर 2019 को दो सगे भाई नाहर सिंह और रमेश सिंह की शादी दो सगी बहनों सीमा और शिवानी के साथ हुई थी मगर शादी के महज 5 दिन बाद ही दोनों दुल्हनें, परिजनों को नशीला पदार्थ खाने में खिलाकर बेहोश कर घर में रखे सभी सोने के जेवरात और नकदी लेकर फरार हो गईं थी।

दूसरे दिन सुबह होने पर घटना का पता चला, तब परिवार के सभी बेहोश लोगों को जिला आरबीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके बाद लु’टेरी दुल्हनों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया गया जिसके बाद पुलिस की टीम गठित की गई। शादी कराने के बदले गैंग के मुखिया ने लड़कों के पिता अमर सिंह से 2 लाख रुपये पहले ही ले लिए थे। लू’टे गए सोने के जेवरातों की कीमत करीब 6 लाख रुपये और नकदी 2 लाख दस हजार रुपये थी जिसे लेकर लु’टेरी दुल्हनें फरार हो गई थी।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

MUST READ

राज्यपाल सतपाल मलिक ने कहा-रामजन्मभूमि मंदिर में केवट और शबरी की मूर्तियां भी हों

Published

on

By

New Delhi : गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर को लेकर सुझाव दिया है। उन्होंने बुधवार को एक कार्यक्रम में कहा कि राम जन्मभूमि मंदिर बनाने वाले ट्रस्ट को मंदिर में केवट और शबरी की मूर्तियां भी स्थापित करनी चाहिए।

ये दोनों जनजातीय और पिछड़ी जाति से थे। केवट और शबरी ने श्रीलंका यात्रा के दौरान राम की मदद की थी। ऐसे में मंदिर में इनकी मूर्तियां स्थापित करने के लिए भी स्थान आवंटित होना चाहिए।

मलिक ने कहा, पूरा देश चाहता है कि अयोध्या में विशाल राम मंदिर बने। श्रीलंका जाते समय भगवान राम की आदिवासियों और पिछड़ी जातियों के लोगों ने मदद की थी। उनकी मदद करने वालों को भी इस मंदिर में स्थान दिया जाना चाहिए। मैं इंतजार कर रहा हूं कि लोग राम मंदिर में केवट और शबरी की मूर्तियां लगाने की मांग करें। मेरा सोचना है कि अभी तक किसी ने यह मांग नहीं की है।

उन्होंने कहा कि जिस दिन ट्रस्ट का गठन होगा मैं इसे पत्र लिखूंगा। मैं अनुरोध करुंगा कि भगवान राम के साथ सच्चाई की लड़ाई लड़ने वालों की मूर्तियां भी मंदिर में स्थापित हो। उन्होंने कहा कि मैं इस मुद्दे पर विवाद से नहीं डरा हूं। जब तक मंदिर में केवट और शबरी की मूर्ति नहीं होगी, न तो यह मंदिर पूर्ण होगा न ही भव्य।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

MUST READ

मुसलमानों का ऐलान..राम मंदिर निर्माण के लिए देंगे 5 लाख रुपए

Published

on

By

New Delhi : अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए असम के 21 मुस्लिम संगठनों ने राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट में 5 लाख रुपये देने की घोषणा की है। जोमोगुस्थिया सोमोन्नय परिषद असम (जेएसपीए) ने राम मंदिर के निर्माण के लिए सहयोग देने का ऐलान किया है।

संगठन की ओर से कहा गया कि देश की एकता के प्रति मुस्लिमों की एकजुटता दिखाने और हिंदुओं की मंदिर निर्माण के प्रति आस्था को देखते हुए यह फैसला किया गया है।

जेएसपीए के चेयरमैन और बीजेपी के वरिष्ठ प्रवक्ता सैयद मुमीनुल ओवाल ने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि हम खुश हैं कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एक लंबे विवाद का अंत हुआ।

हम मंदिर के लिए 5 लाख रुपये का दान देंगे क्योंकि हम भी इस ऐतिहासिक फैसले बनना चाहते हैं और देश की एकता और भाईचारे को मजबूत करना चाहते हैं।

इन 21 संगठनों में गोरिया, मोरिया, देशिया, जल्हा, मैमल और कचरी मुस्लिम शामिल हैं जिनके पूर्वजों ने राज्य के कई जातीय समूहों से निकलकर इस्लाम कबूल कर लिया था।

Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Reimagine.News – News Source

Continue Reading

Trending

a venture of reimagine labs media pvt.ltd.